चमत्‍कारिक रहस्यों से भरी है काशी। यहां आपको हर मर्ज की दवा मिल जाएगी। यह इस शहर का तिलस्म ही है। सवाल इतना सा है कि आपकी समस्या क्या है? यहां उसका निदान हाजिर है। देश की अदालतों में तारीख मिलना इस देश की रवायत है और कचहरी के चक्कर काटते रहना इस मुल्क के गरीब आदमी का प्रारब्ध। इससे आपको कोई निजात तो नहीं दिला सकता, लेकिन बनारस में है इसका निदान। गंगा किनारे काशी के ठीक ऊपर संकठा मंदिर के पीछे एक मोहल्ला है पटनी टोला। इस पटनी टोला के मकान नम्बर सीके 2/38 में विराजती हैं मां पीताम्बरा। मां के मंदिर के प्रताप से मोहल्‍ले को सिद्धेश्वरी के नाम से भी पुकारा जाता है। कहते हैं कि माता पीताम्बरा के दर्शन मात्र से कोर्ट कचहरी के चक्कर और कानूनी दांव पेंच से मुक्ति मिल जाती है। केस कैसा भी हो अगर कोई जेल में बंद हो तो माता अपने प्रताप से उसे मुक्त करा देतीं हैं। इन सबके लिए जरूरी नहीं है कि वो शख्स खुद ही हाजिरी लगाये। अगर अच्छे दिल से कोई किसी के लिए भी हाजिरी लगाए तो माता पीताम्बरा उसका मनोरथ पूर्ण करती हैं।

Advertisements