वैसे तो जीना-मरना प्रकृति का नियम है लेकिन इंसान इस दुनिया के बंधनों में जब बंध जाता है तो छूट पाना मुश्किल हो जाता है। इसिलये मृत्यु के नाम से ही हम दुखी हो जाते हैं। किसी के घर में कोई मौत हो जाए तो मातम का माहौल छा जाता है। अपने किसी भी करीबी की मृत्यु से इतना दुख होता है कि कई दिनों तक तो हम उस गम से बाहर ही नहीं निकल पाते हैं। लेकिन आप ये जानकार चौक जाएंगे कि अफ्रीका के पूर्वी तट पर एक ऐसा द्वीपीय देश भी है जहां किसी की मृत्यु के बाद लोग खुशी में नांचत गाते हैं। मेडागास्कर नाम के इस देश का रिवाज बिल्कुल ही अलग है। यहां के लोग किसी भी व्यक्ति की मौत पर त्‍योहार जैसा माहौल मनाते हैं। यहां हर परिवार में एक अजीब रस्‍म फामाडिहाना (टर्निग ऑफ द बोन्स) मनाई जाती है। इस रस्‍म के तहत मुर्दे की लाथ को कब्र मे दफनाया जाता है और उसे फिर से बाहर निकाल कर उसकी शव यात्रा निकाली जाती है।

इस रस्म के दौरान सभी नए कपड़े पहनते हैं। मृत शव को भी एक नए साफ कपड़े में लपेटा जाता हैं और फिर उसके साथ लोग नाचते-गाते हैं। नांचने-गाने के लिए तेज संगीत भी बजाया जाता है। जानवरों की बलि देते हैं और मेहमानों व परिवार के लोगों में मांसाहारी भोजन बांटा जाता है। यह अजीबोगरीब रिवाज मेडागास्कर क्षेत्र में प्रत्येक सात सालों में मनाया जाता है। यहां के लोगों में मान्यता है कि मृत शरीर जितनी जल्दी कंकाल में बदल जाएगा वह उतनी ही जल्दी मुक्त हो पाएगा। और तभी नए शरीर में प्रवेश कर पाएगा। उनके अनुसार,  जब तक शरीर पर मांस बना रहेगा तब तक आत्मा दूसरा शरीर धारम नहीं कर सकती।  इसलिए यहां के लोग अपने रिश्तेदारों के शव के कब्र से निकालकर उसके साथ नांचते हैं। नांच-गाना करने के बाद ये लोग उस लाश को दोबारा से दफना देते हैं।

Advertisements