नोटबंदी के बाद पूरे देश में कॉग्रेस के कार्यकर्ताओं ने भारत सरकार और नरेंद्र मोदिजी के फैसला का विरोध करते आए हैं.

लेकिन उसका उल्टा परिणाम कॉग्रेस कार्यकर्ताओं पर ही भारी पड़ा. शिमला में कॉग्रेस कार्यकर्ता नरेंद्र मोदिजी का विरोध कर रहें थे और उनका पुतला जला रहें थे लेकिन जब कॉग्रेस कार्यकर्ता नरेंद्र मोदीजी का पुतला जला रहें थे तब उसी की चपेट में कॉग्रेस कार्यकर्ता आए. ज्यादा पेट्रोल डालने की वजह से पुतले में लगाई आग काफी ज्यादा फैल गयी और वो कॉग्रेस कार्यकर्ता के शरीर पर आयी.

उस आग में कई कॉग्रेस कार्यकर्ता बुरी तरह जख्मी हुए. अब ऐसा लगता हैं कि भगवान भी नरेंद्र मोदिजी के इस फैसले के साथ हैं.

Advertisements