भारत में ऐसे तो कई अदभुत मंदिर और कई अन्य धर्म स्थल हैं आज हम जिस आश्चर्य जनक मंदिर के बारे में बता रहे है, वो आपको थोडा अजीब तो लगेगा पर है बिलकुल सच, वास्तव में उत्तर प्रदेश के एक छोटे से जिले में एक ऐसे शनि मंदिर का निर्माण किया गया है, जिसका मकसद भ्रष्टाचार को रोकना है। इस मंदिर में किसी भी भ्रष्ट अधिकारी या नेता के आने पर पूर्ण पाबन्दी है ।

वास्तव में भ्रष्टाचार शब्द लोगों के आचरण से जुड़ा है। और लोगों के आचरण में पैठ जमा चुके भ्रष्टाचार का समूल उपचार सरकार के साथ समाज और उसमें रहने वाले लोगों को ही करना होगा। पेशे से सामाजिक कार्यकर्ता उस व्यक्ति ने भ्रष्टाचार मिटाने के लिए एक अदभुत शनि मंदिर का निर्माण कराया है।

कानपुर विश्वविद्यालय के पीछे अवस्थित इस मंदिर का नाम भ्रष्ट तंत्र विनाशक शनि मंदिर है। मंदिर के निर्माण के बाद उसका लोकापर्ण पवन राणे बाल्मीकि नामक नि:शक्त व्यक्ति से कराया गया।

निजी भूमि पर बने इस शनि मंदिर में मूर्तियों को भी तर्कों के आधार पर स्थापित किया गया है। शनि देव की तीन मूर्तियों के साथ ब्रह्मा की मूर्ति ऐसे रखी गयी है जिससे लगता है कि ब्रह्मा सीधे शनि देव को देख रहे हों। इन मूर्तियों के साथ ही एक मूर्ति हनुमान की भी स्थापित की गयी है .

aa.jpg

मंदिर में अधिकारियों, मंत्रियों व नेताओं, इलाहाबाद और उच्चतम न्यायलय के न्यायधीशों की तस्वीरों को इस तरह लगाया गया है कि शनि देव की सीधी निगाह उन पर पड़ी रहे। इसके पीछे का मकसद बस इतना है कि व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के जिम्मेदार इन लोगों द्वारा जनता विरोधी निर्णय लेने की स्थिति में इन्हें शनि देव का कोपभाजन बनना पड़े।

भ्रष्ट तंत्र विनाशक शनि मंदिर में सामान्य नागरिकों का प्रवेश मान्य है, लेकिन भ्रष्ट अधिकारियों, मंत्रियों, न्यायधीशों का प्रवेश वर्जित है। इसके साथ ही यह प्रावधान किया गया है कि 20 वर्षों के समय में अगर व्यवस्था में सुधार होता है तो इन वर्जित वर्गों को भी मंदिर में प्रवेश मिल सकता है।

शनि देव के इस मंदिर में मूर्तियों के ऊपर तेल चढ़ाना, प्रसाद चढ़ाना और घंटा बजाना निषिद्ध है। हालांकि, यहाँ लौंग, इलायची और काली मिर्च के साथ मिट्टी के दीये बेरोकटोक चढ़ाये और जलाये जा सकते हैं। इसके साथ ही शराबियों का वहाँ प्रवेश, थूकना, खैनी चबाना आदि घृणित कृत्य की सूची में रखे गये हैं।

भ्रष्ट तंत्र विनाशक मंदिर का निर्माण करवाने वाले सामाजिक कार्यकर्ता रॉबी शर्मा का उद्देश्य है कि लोग भ्रष्ट अधिकारियों, नेताओं-मंत्रियों और न्यायाधीशों को भगवान ना समझ उनका बहिष्कार करें। शायद इस बहिष्कार से वो अपनी सोयी अंतर्चेतना की आवाज़ सुन आत्म-सुधार की ओर बढ़ सकें।

 

Advertisements