आज के दौर में ज़िंदगी इतनी सस्ती है कि सड़क के किसी भी चौराहे पर कौन ले कर चला जाए, कोई नहीं कह सकता. अपनी झूठी शान के नशे में चूर लोग ये भूल जाते हैं कि उनकी एक गलती किसी के पूरे परिवार को ख़त्म कर सकती है.

बीते शनिवार हुआ केस भी इसी का एक उदाहरण है. पंजाब का भटिंडा जिला इसका गवाह बना. जब शादी में अतिथियों के मनोरंजन के लिए स्टेज पर लड़कियों का डांस चल रहा था. तभी अचानक गोली की आवाज़ आती है और 25 साल की एक गर्भवती डांसर स्टेज पर ही गिर जाती है. उस गर्भवती महिला डांसर का नाम था कुलविंदर कौर. 

मृत लड़की के पति ने बताया कि गोली मारने वाला लकी गोयल है, जिसे स्टेज पर जाने से रोका गया था. लकी उन लड़कियों के साथ डांस करना चाहता था. लेकिन नशे में धुत होने की वजह से उसे स्टेज पर नहीं जाने दिया गया. बस यही बात लकी को बुरी लगी. शराब का नशा इस कदर उसके ऊपर चढ़ा था कि उसने अपने दोस्त की बंदूक ली और गोली चला दी. ये गोली कुलविंदर के चेहरे पर जा लगी और वो उसी वक़्त मारी गई. गौर करने वाली बात ये है कि जिस पिस्तौल से इस वारदात को अंजाम दिया गया है वो शिरोमणी अकाली दल के नेता के बेटे की थी, जो खुद इस पार्टी में मौजूद थे. लकी के साथ चार और लोग थे जिनके खिलाफ़ भी पुलिस ने मामला दर्ज किया है.

aa.jpg

फिलहाल लकी गोयल की तलाश जारी है. कुलविंदर के रिश्तेदार भी उसे जल्द से जल्द पकड़ने के लिए अस्पताल के बाहर धरने पर बैठे हैं. गोली मारने के फ़ौरन बाद से ही लकी गायब है. पुलिस तलाश में तो जुटी है. ये कोई पहली घटना नहीं, जब नशे में किसी ने ऐसे ही तैश में किसी की जान ले ली हो. ख़ास कर नॉर्थ इंडिया में हर साल न जाने कितने लोग किसी नशे में धुत आदमी की गोली का शिकार बनते हैं. फिर भी हमारा समाज शराब को अपना अपनी संस्कृति का हिस्सा बना चुका है. शायद इससे बड़ी बुराई हमारे समाज में आने वाली पीढ़ी को नहीं दी होगी. ये शर्मनाक है, और उतना ही भयानक सच भी.

Advertisements