दक्षिणी ताइवान में इस साल के सबसे ताकतवर सुपर तूफान मेरांटी ने तबाही मचा दी। इस तूफान के चलते पांच लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं।

 तूफान के कारण ताइवान के कुछ हिस्सों में जनजीवन ठहर गया। तूफान के कारण 2.60 लाख से ज्यादा घरों की बिजली चली गयी। आर्मी के करीब चार हजार जवान रेस्क्यू में लगे हैं। करीब 370 किमी की रफ्तार से हवाएं चलीं। मौसम विभाग ने बताया कि रविवार तक इसकी स्पीड लो कैटेगरी के तूफान जैसी थी, लेकिन 24 घंटे में यह सुपर तूफान में तब्दील हो गया। ऐसे तूफान 24 घंटे तक 370 किमी प्रति घंटे की रफ्तार मैंटेन रखते हैं।

पूरी दुनिया में इस साल आए तूफानों में ये अब तक का सबसे ताकतवर तूफान है। चीन की तरफ बढ़ रहे इस तूफान की रफ्तार 350 किलोमीटर प्रति घंटा है, जो कि फॉर्मूला वन रेस कार की रफ्तार से भी ज्यादा है। ताइवान में स्पीड की वजह से समंदर में 14 मीटर या फिर उससे भी ऊंची लहरें उठीं। बंदरगाहों पर लोहे के भारी भरकम कार्गो कंटेनर पत्तों की तरह उड़ते देखे गए।

 तूफान से 2.60 लाख घरों की बिजली गुल हो गई। 130 मकान ध्वस्त हो गए। सैकड़ों पेड़ों के गिरने की खबर है। वहीं, सड़कों पर लाइट पोल्स गिरने से ट्रैफिक प्रभावित हुआ। 370 फ्लाइट्स को रद्द करना पड़ा। इस तूफान के अगले 24 घंटे में चीन की तरफ बढ़ने के आसार हैं। गुरुवार को मेरांटी तूफान गुआंगडॉन्ग और फुजियान राज्यों में दस्तक देगा। मोरांटी से निपटने के लिए चीन के छह राज्य अलर्ट पर हैं। साउथ चीन के नॉर्थईस्ट कोस्टल एरिया में 44 फीट ऊंची लहरें उठने का अलर्ट जारी किया है।
Advertisements