यहां लगता है दुल्हन का बाजार, पैसे दो दुल्हन खरीदो

आमतौर पर हम बाजार अपनी आवश्यकता की चीजें खरीदने के लिए जाते हैं। क्या आप यह सोच सकते हैं कि किसी बाजार में दुल्हन भी बिकती हों। जी हां बुल्गारिया में स्टारा जागोर नामक जगह में हर तीन साल में एक बार दुल्हनों का बाजार सजता है। यहां आकर दूल्हा अपनी मनपसंद दुल्हन को खरीदकर उसे अपनी पत्नी बना सकता है। यह मेला उन गरीब लोगों के लिए लगाया जाता है, जिनकी आर्थिक स्थिति ऐसी नहीं है कि वे बेटी की शादी का खर्च उठा सकें। दुल्हन के परिवार को देने पड़ते हैं पैसे लड़कियों को दुल्हन की पोशाक में सजाकर ले जाया जाता है। बिकने वाली दुल्हनों में लगभग हर उम्र की लड़कियां-महिलाएं शामिल होती हैं। दुल्हन खरीदने के लिए अक्सर लड़के के साथ उसके परिवार वाले भी आते हैं।दूल्हा पहले अपनी मनपसंद लड़की चुनता है और फिर उसे उससे बात करने का मौका दिया जाता है। लड़की पसंद आने पर उसे अपनी पत्नी स्वीकार कर लेता है और लड़की के परिवार वालों को तय रकम देता है। दुल्हन खरीदने का प्रचलन यहां कई पुश्तों से बुल्गारिया के गरीब लोगों की ओर से चला आ रहा है। इस पर कानूनी रोक भी नहीं। नियम का सख्ती से होता है पालन दरअसल, यह प्रचलन गरीब लोगों की आर्थिक स्थिति को ध्यान में रखते हुए शुरू किया गया। बाजार में वे ही परिवार होते हैं, जो अपनी लड़कियों की शादी करने के लिए आर्थिक रूप से कमजोर हैं। बाजार में लड़कियां अकेले नहीं आतीं। उनके साथ परिवार का कोई न कोई सदस्य अवश्य होता है। आमतौर पर लड़के वालों को दहेज दिया जाता है, लेकिन यहां उल्टा रिवाज है। यहां लड़के को लड़की के परिवार को पैसे देने पड़ते हैं। इससे लड़की के गरीब परिवार की मदद भी हो जाती है। इस नियम का भी सख्ती से पालन किया जाता है। यानी की लड़के वालों को पसंद आई लड़की को बहू मानना ही होता है। यह बाजार बुल्गारिया के कलाइदझी समुदाय द्वारा लगाया जाता है। समुदाय के अलावा कोई बाहरी व्यक्ति दुल्हन नहीं खरीद सकता।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s