उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में एक राजगीर (मकान बनाने वाला) के बैंक अकाउंट में अचानक 62 लाख रुपये आ गए, तो उसे यकीन भला कैसे हो सकता है? उसने इससे जुड़ा एक बैंक का मेसेज भी अपने फोन पर देखा, पर हमेशा की तरह बेकार का सर्विस मेसेज समझकर इग्नोर कर दिया. दिवाली में अपने घर गए अजय पटेल को झटका उस समय लगा, जब वो एटीएम से कुछ पैसे निकालने के लिए गए और अपना अकाउंट ब्लॉक पाया.

दरअसल, वो मुम्बई में काम करते हैं और वहां जाने के लिए उनके पास पैसे नहीं थे, तो एटीएम जाना पड़ा था, जहां पैसे नहीं निकाल सके. इसके बाद जब उन्हें कस्टमर केयर से कॉल आई और उन्हें जल्दी से बैंक आने को कहा गया, तब उन्हें पता चला कि उनका अकाउंट इसलिए ब्लॉक हुआ, क्योंकि उसमें बिना किसी सोर्स की जानकारी के 62 लाख रुपये अचानक आ गए.

zz.jpeg

पटेल ने अपने फोन में आए मेसेज को फिर से पढ़ा और उन्हें सारी बात समझ आ गई. पटेल कहते हैं कि उन्होंने बैंक अधिकारी को बताया कि वो अपने गांव में ही थे. उनसे ग्राम प्रधान या मजिस्ट्रेट से साइन करवाकर एक लेटर जमा करने को कहा गया. 

वो कहते हैं कि मैंने बैंक मैनेजर से कहां कि वो पैसे मेरे तो हैं नहीं, इसलिए सरक़ार जैसे चाहे उसका इस्तेमाल करे. बस मुझे कुछ पैसे मेरे अकाउंट से निकालने दिया जाए, क्योंकि घर पर बिलकुल पैसे नहीं थे. पिताजी की तबियत ख़राब थी और पैसे की ज़रूरत थी.

बैंक के अधिकारियों से लेकर गांव के लोगों तक, हर कोई अजय पटेल के अकाउंट में अचानक आये इतने रुपये से हैरान था.

zz.jpeg

Advertisements