गैरतगंज। आपने कभी ऐसे स्थान को देखा है जहां सांप अपने गुनाह खुद कुबूल करते हैं वह भी एक इंसान के शरीर में प्रवेश कर। सांपों की आत्मा खुद आकर बताती हैं कि आखिर उसने किसी व्यक्ति को काटने का महापाप क्यों किया। मध्यप्रदेश गैरतगंज से 15 किमी दूर सिलवानी रोड स्थित ग्राम सीहोरा खुर्द में नागों की अदालत का आयोजन किया गया। जिसमें बीते साल भर में नागए सांप के सताए हुए लोग पहुंचे और उनके सिर आए नागों ने उन्हे डसने का कारण बताया। रविवार को सीहोरा स्थित नागदेव के चबूतरे पर नागों की अदालत लगी। दूर दराज के दर्जनों लोग जो बीते वर्ष में सर्पदंश से पीडि़त रहे थे। वे इस अनोखे आयोजन में पहुंचे। यहां पंडा अजब सिंह की मौजूदगी में बारी बारी से पीडि़त रहे दर्जनभर से अधिक लोगों के शरीर में नागों की आत्मा ने प्रवेश कर संबंधित व्यक्ति को काटने का कारण बताया। यही नहीं प्रविष्ट नाग की आत्मा ने भविष्य में किसी व्यक्ति को पीड़ा न पहुंचानें का वचन भी दिया। सीहोरा ग्राम के भीतरी क्षेत्र में नागदेव का चबूतरा है। जहां प्रतिवर्ष नागपंचमी के मौके पर नागों की अदालत लगती है। मान्यता है कि सालभर में सर्पदंश से पीडि़त लोग सीहोरा पहुंचकर वहां के पंडा अजब सिंह से गांसी बंधवाते हैं। जिससे उन्हे लाभ प्राप्त होता है। उन्हें नाग पंचमी पर पुनरू सीहोरा पहुंचना होता है।

Advertisements