भारत में हमेशा ही लोगों को देवी-देवताओं पर अपार श्रद्धा रही है। इसलिए भारतियों की ये मान्यता है कि आत्माएं होती हैं, वो अच्छी हो या बुरी। इसलिए कुछ लोग भूत और प्रेतों में विश्वास करते हैं। भारत में ऐसे कई इलाके हैं जहां भूतों और प्रेतों की कहानियां प्रचलित है, वहां कई ऐसे रहस्य है जो कभी सुलझ नहीं सके। ऐसी ही कहानी है चोरटेन कांग नग्यी की, ये एक स्तूप है, जिसे तिब्बती लोगों ने यह नाम दिया है। इसे यमलोक का दरवाजा भी कहा जाता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि यहां अगर कोई भूल से भी रात को रुक जाता है, तो सुबह लौट के नहीं आता।

चीन के स्वायत्त क्षेत्र तिब्बत में दारचेन से 30 मिनट की दूरी पर यह जगह बसी हुई है, जो कैलाश जानेवाले मार्ग पर आती है हिंदू मान्यता अनुसार इसे यमराज के घर का दरवाज़ा माना जाता है। इसे किसने बनवाया ये आज तक पता नहीं चल पाया है पर आए दिन यहां अनहोनी घटनाएं होती रहती है, जिससे जुड़ा रहस्य आज तक सुलझ नहीं पाया है। ये अंधविश्वास को बढ़ावा देने के इरादे से नहीं बताया जाता। पर ऐसे कुछ रहस्य भी हैं, जिसे विज्ञानं भी नहीं सुलझा पाया है।

 

Advertisements