राजस्थान सरकार सलमान खान को फिर से जेल भेजने के लिए तैयार है।  मानने का कोई नाम ही नहीं ले रहा।  पूरा मन बना लिए हैं।  और इस बार सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए।  सुप्रीम कोर्ट में राजस्थान सरकार ने कहा है कि सलमान खान से फिर से सरेंडर करवाया जाए।  और जो बची हुई सजा है वो पूरी करवाई जाए।

जुलाई में राजस्थान हाई कोर्ट ने सलमान को चिंकारा और बारहसिंघा के शिकार में सजा सुनाई थी।  एक में सलमान को 1 साल तक चक्की पीसने को कहा गया था और दूसरे केस में 5 साल तक।  लेकिन भाई तो भाई है।  1 हफ्ता जोधपुर जेल में बिताया फिर बेल मिल गया।  और मिले भी क्यों न, भाई ने कमिटमेंट कर रखी थी प्रोड्यूसर लोगों को।  और उधर करण-अर्जुन वाली माता जी भी रोज सेट मैक्स पर मेरे करण-अर्जुन आएंगे, आएंगे कर रही थीं।  तो भाई निकल लिए।

इसके बाद हाई कोर्ट ने इनको बरी कर दिया था।  हाई कोर्ट ने कहा कि इन्होने हिरण और बारहसिंघे को मारा इसका क्या सुबूत है? एक ड्राईवर था बाद में पलट गया।  ऐसे भी हिन्दुस्तान में बड़े लोगों को क्राइम करते कौन देखता है! वही हुआ यहां भी।  पहले ड्राईवर ने जो लिख के बयान दिया था वो भी बाद में पलट गए।

लेकिन जैसे ही NDTV ने एक बार ड्राईवर हरीश दुलानी को खोज निकाला।  तब ड्राईवर ने कह दिया था कि मैंने सलमान को चिंकारा को मारते हुए देखा था।  लेकिन मुझे धमकी मिली थी।  जिस वजह से मुझे कोर्ट में बयान बदलना पड़ गया।  अच्छा, ये वो ड्राईवर था जो सलमान की गाड़ी चला रहा था।

अब राजस्थान सरकार सुप्रीम से कह रही है कि जो विटनेस है उसके लिखे हुए बयान को फिर से एक्सेप्ट किया जाए और सलमान को फिर से जेल भेजा जाए।  लेकिन सलमान के वकील तैयार हैं।  उन्होंने साफ़-साफ़ कहा कि जब गवाह कोर्ट पहुंचा ही नहीं तो फिर दुबारा उनसे सवाल-जवाब कैसा!

2 अक्टूबर 1998 के एक काला हिरण के शिकार मामले में भाईजान के केस की सुनवाई अलग ही चल रही है।  अब भगवान जाने भाई क्या-क्या करेंगे, कौन-कौन सा केस लड़ेंगे!

Advertisements