एमपी के रतलाम का प्रसिद्ध महालक्ष्मी मंदिर बेशकीमती जेवरों और लाखों के नोटों से सजना शुरू हो गया है. यहां पर धन की देवी के लिए 500 रुपए तक के नोटों से खास वंदनवार बनाया जाता है. इस बार मां के दरबार में सजाए गए चांदी के पांच हाथी लोगों के आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं.

aa.jpg

माणकचौक स्थित महालक्ष्मी मंदिर में भक्तों ने दिवाली से पहले जेवर और नकदी भेंट करना शुरू कर दी है. इन जमा हुए आभूषणों से दिवाली से पहले तीन दिनों तक महालक्ष्मी का श्रृंगार किया जाएगा. खास बात ये है कि दिवाली के दिन ये सभी आभूषण और नगद भक्तों को वापस लौटा दिए जाएंगे.

aaa.jpg

चढ़ाई गई नगद राशि से मंदिर के गर्भगृह से लेकर पूरे परिसर को 10 से 500 रुपए तक के नोटों के विशेष वंदनवारों से सजाया जाएगा. दरअसल, रतलाम के महालक्ष्मी मंदिर में सालों से गहने और राशि चढ़ाने की परंपरा रही है. इस भेंट को बकायदा रजिस्टर में नाम के साथ नोट भी किया जाता है. जिसके बाद दिवाली के दिन रिकॉर्ड के ही आधार पर भक्तों को सबकुछ प्रसादी के रूप में लौटा दिया जाता है.

 

aa.jpg

Advertisements