राजस्थान के टोंक जिले में एक-दो लोग नहीं कई गांवों के सैकड़ों लोग जमीन में दबा खजाना खोजने में लगे हैं. पिछले तीन दिनों से लोग मिट्‌टी खोदते हुए सोने के सिक्कों को ढूंढ़ रहे हैं. ग्रामीणों की माने तो यहां लोगों को मिट्‌टी में दबे सोने के सिक्के मिल रहे हैं और ये बात जिस किसी को पता चली है वो ही सिक्के ढूंढ़ने में लगा है.

उल्लेखनीय है कि मिट्‌टी में दबे सोने के सिक्कों का यह मामला टोंक जिले के मालपुरा उपखंड के जानकीपुरा गांव का है. यहां दबेड़िया नाड़ी के पास एक चेजा पत्थर (निर्माण कार्य में काम आने वाले पत्थर) की खदान है. इस खदान में कुछ ग्रामीणों को खुदाई में प्राचीन सोने के सिक्कों के मिलने की सूचना के बाद यहां लगातार तीन दिन से ग्रामीणों का मेला सा लगा हुआ है.

खुदाई में जुटे हैं सैकड़ों ग्रामीण:

यहां जिस किसी को भी देखो वह सोने के सिक्कों की चाह में खुदाई करने में जुटा हुआ है. यहां ना सिर्फ जानकीपुरा के ग्रामीण बल्कि आसपास के कई गांवों के लोग भी सोने के प्राचीन सिक्कों के मिलने की आस लगाए बड़े पैमाने पर खुदाई करने में जुटे हुए हैं.

खजाने की पुष्टि नहीं, वॉट्सएप पर फैली खबर:

खास बात यह है कि यहां कई प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी दौरा कर चुके हैं लेकिन किसी ने सोने के सिक्के मिलने की पुष्टि नहीं की है. उधर, ग्रामीणों की माने तो गांव के ही कुछ लोगों ने यहां प्राचीन सोने के सिक्कों के मिलने की खबर फैलाई है. वॉट्सएप पर सोने के सिक्के का फोटो भी शेयर किया जा रहा है. इसी के चलते लगातार अफवाह फैलती जा रही है और सैकड़ों लोग खुदाई करने में जुटे हुए हैं.

सोने के सिक्के पर देवता, राजा का चित्र:

वॉट्सएप पर जिन दो प्राचीन सिक्कों के फोटो वायरल हुए हैं उनके बारे में कहा जा रहा है वे यहीं खुदाई के दौरान मिले थे. इनमें से एक सिक्के पर उकरा चित्र किसी देवता का या राजा का लग रहा है साथ ही एक खास लिपि में कुछ लिखा है. वहीं दूसरे सिक्के पर एक महिला और मोर का चित्र अंकित है.

खजाने के चक्कर में जान जोखिम में डाल रहे ग्रामीण:

जिस दबेड़िया नाड़ी के पास ग्रामीण सोने के सिक्कों में मोह में खुदाई करने में जुटे हुए हैं वहां पूर्व में खनन से बने गड्डे में 40 से 50 फीट गहरा पानी भरा हुआ है. इसके चलते वहां कभी भी कोई हादसे का शिकार हो सकता है.

अफवाह फैलाने के आरोप में 4 गिरफ्तार:

डिग्गी थाना पुलिस ने पूरे मामले को अफवाह बताते हुए शुक्रवार को अफवाह फैलाने के आरोप में चार ग्रामीणों को गिरफ्तार भी किया है. बता दें कि जिला प्रशासन और पुलिस दोनों ही इसे अभी तक महज अफवाह बता रहे हैं. पुलिस कई बार मौके पर जाकर लोगों को हटा भी चुकी है लेकिन पुलिस के जाते ही यहां ग्रामीण फिर से खुदाई में जुट जाते हैं.

Advertisements