साल 1936 में बने इस बांध के बारे में कहा जाता था कि यहां से कोई भी चीज नीचे फेंकने पर ऊपर आती है, हालांकि इस बात को हमेशा से अफवाह माना जाता रहा है। लेकिन वैज्ञानिकों ने हाल ही में एक शोध में पाया कि यह कथन वाकई सच है।

हूवर डैम के ऊपर से जाकर अगर एक बोतल से पानी नीचे उड़ेला जाए तो पानी नीचे गिरने की बजाए आकाश की तरफ उड़ने लगता है। हालांकि, साइंटिस्ट इसके पीछे की वजह यहां चलने वाली तेज हवा को मानते हैं। शोधकर्ता लेसली कहती हैं कि बांध के चलते हवा ऊपर की तरफ बहती है, इसकी मदद से पानी गुरूत्व बल के सिद्धांत के पार आ जाता है।

ww2.jpg

यही वजह है कि नीचे की ओर बहने के बजाए पानी हवा के साथ ऊपर की तरफ बहने लगता है। कोलोराडो नदी पर बना हूवर बांध धनुष के आकार का है। यही वजह है कि नेवाडा स्टेट में बने इस डैम को आर्क डैम भी कहा जाता है।
यह 221.4 मीटर ऊंचा और 379 मीटर लंबा है। बांध की दीवार से टकराने वाली हवा रास्ता खोजने के लिए ऊपर की तरफ बहने लगती है। घाटी होने की वजह से हवा की रफ्तार बहुत तेज होती है। तेज रफ्तार से ऊपर की ओर बहती हवा के संपर्क में जब बोतल से उड़ेला गया पानी आता है तो वह भी आकाश की तरफ उड़ने लगता है। यही हाल छोटी और हल्की चीजों को नीचे गिराने पर भी होता है।

 

Advertisements