शुक्रवार को शंकाओं का दिन कहा जाता है. अध्यात्मिक किताबों में भी इस बात के रहस्य मिले हैं. ऐसे में इस दिन चंद्रमा का पूर्णत: काला होना किसी अनहोनी के संकेत हैं. इस बार चंद्रमा अमेरिका में काला हो रहा है. देखा जाए तो डोनाल्ड ट्रंप के लिए अच्छी ख़बर नहीं है. हालांकि, इसमें डरने जैसी कोई बात नहीं है, क्योंकि यह सदियों से चला आ रहा है.

c2

महीने में चांद दो बार अपना रूप बदलता है. एक को अमावस्या कहते हैं, दूसरे को पूर्णिमा. पूर्णिमा अथवा अमावस्या के दिन चंद्रमा और सूर्य का गुरुत्वाकर्षण एकत्रित हो जाता है, जिसके कारण चंद्रमा शक्तिशाली हो जाता है. अमेरिका के Western Hemisphere में कुछ इसी तरह का चांद दिखेगा.

Space.com के Josh Rao चांद के इस रूप को ‘नीला चांद’ भी कहते हैं. Science Alert के मुताबिक, यह एक खगोलीय मिथ्य है. सच तो ये है कि यह गुरुत्वाकर्षण और सौर प्रक्रिया के कारण चांद का रुप बदलता है. चांद काला हो या गोरा, है तो हमसे दूर ही ना!

Advertisements