जीवन और मृत्यु प्रकृति का नियम है और अगर इस नियम को तोड़ा जाए तो परिणाम भयंकर होते हैं ऐसे कई उदाहरण देखने को मिले हैं। ऐसा ही कुछ इस मामले में भी देखने को मिला है। एक महिला 9 महीने नहीं 9 साल भी नहीं बल्कि पूरे 46 साल तक अपने गर्भ में बच्चे को रखी रही।

ये चौंका देने वाला मामला मोरक्को के एक छोटे से गांव का है और जो महिला 46 साल तक अपने गर्भ में बच्चे को रखे रही उसका नाम है जेहरा अबोउतालिब। जब इस महिला ने गर्भ धारण किया था तब वो 26 साल की थी।

दरअसल जब इस महिला ने गर्भ धारण किया था तो इसको लेबर पेन हुआ उसके बाद तुरंत हॉस्पिटल ले जाया गया। अस्पताल पहुंचने के बाद डॉक्टर्स ने बोला कि हालत नाजुक है इसलिए ऑपरेशन करना पड़ेगा। लेकिन जेहरा ऑपरेशन के लिए बिल्कुल तैयार नहीं थी। जेहरा को अपनी जान का खतरा लगा और मौका पाते ही वो अस्पताल से भाग गई .

 

पेट में हो रहे दर्द को इस महिला ने लगातार सहा और आखिरकार जेहरा का बच्चा उसstonebabyके गर्भ में ही मर गया। इतना ही नहीं बच्चे को बाहर भी नहीं आने दिया। उसके बाद सबकुछ नॉर्मल चलता रहा और दिन गुजरते गए लेकिन जब वो 75 साल की हुई तो उनके पेट में एक बार फिर दर्द हुआ तो उन्होंने डॉक्टर से सलाह ली और चेकअप कराए।

चेकअप कराने के बाद जो रिपोर्ट सामने आई उसने सभी को चौंका दिया। 46 साल बाद अब वो बच्चा पत्थर का बन चुका था। जिस ऑपरेशन से डरकर वो अस्पताल से 46 साल पहले भाग गई थी उसे वही ऑपरेशन दोबारा कराना पड़ा। ऑपरेशन के बाद जब गर्भ को बाहर निकाला गया तो वो बच्चा पत्थर का बन चुका था साथ ही साथ सड़ भी चुका था।

 

Advertisements