भारत को कुछ लोग अंधविश्वासों का देश कहते हैं. भला कहे भी क्यों न? क्योंकि हमारे देश में धर्म, भक्ति और श्रद्धा के नाम पर बहुत सारे खेल होते हैं. अंधविश्‍वास के नाम पर भारत में आए दिन लोग कई ऐसे कारनामे कर देते हैं, जो न सिर्फ़ हैरान करने वाले होते हैं, बल्कि जानलेवा भी होते हैं. चाहे कोई भी धर्म हो, कहीं दहकती आग में चलाया जाता है, तो कहीं जहरीले सांप से जीभ पर कटवाया जाता है.

दरअसल, राजस्थान के लोग 15 सितंबर को वीर तेजाजी मंदिर में सांपों का एक विचित्र त्योहार मनाते हैं, जिसमें अच्छे भाग्य और सुख-समृद्धि की कामना के लिए लोग खुशी से खतरनाक सर्पदंश झेलते हैं.

गौरतलब है कि वीर तेजा जी को पूरे प्रदेश में सांपों के लोक देवता के रूप में पूजा जाता है. तेजा जी को भगवान शिव के ग्‍यारह अवतारों में से एक माना जाता है. सुख-समृद्धि और खुशियों की चाह में सिर्फ़ राजस्थान ही नहीं, बल्कि अन्य राज्यों से भी लोग यहां आते हैं.

Source:bp

भक्त लोग इस दौरान सांप को हाथ में लेकर नाचते और गाते हैं और इन जहरीले सांपों से अपनी जीभ पर डसवाते भी हैं. लोग ऐसा मानते हैं कि सांप से जीभ पर डसवाने से बीमारियां ठीक हो जाती हैं.

इस तरह के अंधविश्वास का मुख्य कारण अशिक्षा है. भला सांप के जीभ पर डसवाने से क्या कोई चमत्कार हो सकता है? इस तरह के अंधविश्वास से सिर्फ़ जान ही जा सकती है और कुछ नहीं

Advertisements